मस्त विचार 2241

कभी न कहो कि, दिन अपने खराब हैं.

समझ लो कि हम, काँटों से घिर गए गुलाब हैं.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *