मस्त विचार 2275

लफ़्ज़ मग़रूर हो जाए चलता है,

मगर स्वभाव में ग़ुरूर खलता है..

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *