सुविचार 2440

यूं तो जिंदगी में आवाज देने वाले ढेरों मिल जायेंगे,

लेकिन बैठिए वहीं जहां अपनेपन का अहसास हो.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *