मस्त विचार 2488

कैसे कह दूं अब थक गया हूँ मैं,

ना जाने घर में कितनों का हौसला हूँ मैं.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *