मस्त विचार 2704

जब अपना नसीब खुद लिखना है, तो दुनिया से शिकवा क्या करना.

जब समंदर से उलझ बैठे हैं, तो अब लहरों से क्या डरना.