मस्त विचार 2277

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते,

इसीलिए तो तुम्हें हम नज़र नहीं आते.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *