मस्त विचार 2359

कहीं ऐसा न हो जाये, कहीं वैसा न हो जाये.

बस इसी उधेड़- बुन में दिन, महीने, साल गुजरते जा रहे हैं.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *