मस्त विचार 2486

पहले जैसा रंग नहीं अब, जीवन की रंगोली में,

जाने कितना ज़हर भरा, अब लोगों की बोली में…

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *