मस्त विचार 2492

सीख नहीं पा रहा हूं मीठे झूठ बोलने का हुनर,

कड़वे सच ने न जाने हमसे कितने लोग छीन लिए.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *