मस्त विचार 2544

दगा मुझे मेरे अपनों ने दिया

और मैं ज़िन्दगी भर गैरों से डरता रहा।।

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *