मस्त विचार 2598

सपने हल्के थे.. उड़ गए हवाओं में…

ज़िन्दगी रह गई.. भारी भारी….

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *