मस्त विचार 2624

हम तो सोचते थे कि लफ्ज ही चोट करते हैं,

मगर कुछ खामोशियों के ज़ख्म तो और भी गहरे निकले !

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *