मस्त विचार 2625

बात नाराजगी की हो तो सुलह की जाये,

यहां मंजर खामोशियों का है तो फ़िर क्या किया जाये.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *