मस्त विचार 2636

कहाँ ये जानते थे कि रस्में उल्फ़त कभी यूँ भी निभानी होगी….

तुम सामने भी होंगे और हमें नज़रे झुकानी होगी…..

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *