मस्त विचार 2657

एक अज़ब सी जंग छिड़ी है, इस तन्हाई के आलम मेँ.

आँखे कहती है की सोने दे, और दिल कहता है की रोने दे॥

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *