मस्त विचार 2667

दिल का बुरा नहीं हूँ मैं,

बस लफ्जों से शरारत करता रहता हूँ.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *