मस्त विचार 4070

शीशा तो टूट कर भी अपनी कशिश बता देता है,

दर्द तो उस पत्थर का है जो टूटने के काबिल भी नहीं..

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected