My Favourites – 2019

एक स्वतंत्र विचारक बनें और जो कुछ भी आप सुनते हैं उसे सत्य के रूप में स्वीकार न करें,_

_ आलोचनात्मक बनें और मूल्यांकन करें कि आप किस पर विश्वास करते हैं…

कम उम्र में मिला हुआ सुख इंसान को कभी समझदार नहीं बनने देता.!!

और कम उम्र में मिला हुआ दुःख इंसान को समझदारी का उस्ताद बना देता है..!!

ज़िंदगी गुज़ारने का यह ढंग ज़्यादातर लोग अपनाया करते हैं,

पहले ज़िंदगी को खुद ही उलझाते हैं, फिर खुद की ही पीठ थपथपाते हैं, _ सुलझाते हुए..

खुद को सँभालने की जिमेदारी भी अब तुम्हारी है मित्र, हौंसला रख,

दुनियां बस मजे लेती है सहयोग नहीं करती.

खुद को खोजिए _ नहीं तो _ आपको दूसरे लोगों की

राय पर _ निर्भर रहना पड़ेगा. _ जो खुद़ को नहीं जानते..

सिर्फ उतना ही विनम्र बनो जितना जरुरी हो..

बेवजह विनम्रता दूसरों के अहम को बढ़ावा देती है..!!

सच बोलने वाले कम ही रहे हैं _ समस्या ये है कि _

_ सिर्फ मर्ज़ी का सच सुनने वालों की तादाद बढ़ गयी है..

जो लोग भविष्य में आने वाले संकटों की तैयारी पहले से नहीं करते ;

समझ लो _ वो लोग अपने लिए और संकट खड़े कर रहे हैं..

चिंता करके अपनी ऊर्जा को खत्म करने से अच्छा है,_

_ समस्या का समाधान करके _ ” चिंता को समाप्त करना “

जो आप की भावनाओं को समझ कर भी आप को तकलीफ देता हो, _

_ वो कभी भी आप का अपना नहीं हो सकता !!

रोना मत कभी यार, तुम इस दुनिया के सामने…_ ये हँसाते नहीं हैं, पर हँसते बहुत हैं..।
जो सच में बुद्धिमान है, वह दूसरों को विवाद करके हराने में उत्सुक नहीं होता,

जो बुद्धिहीन है, वह किसी को भी हराने में उत्सुक होता है.

किसी भी समस्या को इतना गंभीर न बनायें कि आप का जीवन उस समस्या के इर्द – गिर्द रह जाये..
” जो लोग कम जानते हैं वे आमतौर पर महान बात करने वाले होते हैं,_

_ जबकि जो लोग ज्यादा जानते हैं वे कम बोलते हैं “

अपने आप को नकारात्मक लोगों के साथ घेरना बंद करें, हम लोगों को नहीं बदल सकते हैं _

_ लेकिन हम उन लोगों को बदल सकते हैं _ जिनसे हम खुद को घेरते हैं.

मेरे अपने दिल दुखाते रहे हैं, ग़ैर हरदम फ़िक्र जताते रहे हैं _

_ मेरे अपने मुझे परेशानियों में देख कर हँसते रहे हैं, _

_ वो तो ग़ैर हैं जो मेरी मदद कर, दिल मेरा जीत जाते रहे हैं !!

छोटी- छोटी लहरों की तरह समझते हैं मेरे अपने लोग मुझे, _

_ उन्हें क्या मालूम शांत समंदर सा गहरा होता जा रहा हूँ मैं ..

नकारात्मक लोगों से बचें, ये लोग आपके दिमाग की असली पॉवर को आपको महसूस ही नहीं होने देंगे !
ऐसे लोगो से सदैव दूर रहें _ जो आपके साथ भी रहता हो और आपके दुश्मनों के साथ भी….!!!
कोशिश करें कि आप एक हफ्ते, एक महीने, एक साल _ किसी के बारे में नेगेटिव ना बोलें ;

और देखें _ आपका जीवन दूसरों से सौ गुना जल्दी बदलता है ” आप ज्यादा स्मार्ट और ज्यादा बुद्धिमान हो जायेंगे “

बुद्धिमान व्यक्ति का मन चालाकी से नहीं जीता जा सकता,

सिर्फ सच्चाई और ईमानदारी से जीता जा सकता है.

अपनी खुशियाँ संभाल के रखिये, ये उस कांच के सामान होती हैं _ जो लोगों को _ चुभती बहुत हैं.
आपके कथित चाहने वाले ही _ आपकी सफलता से _ सबसे ज्यादा जलते हैं..
असल में साथ था ही नही कोई _ बेकार में गुमान होता था अपनो पर..!!
अकेले खड़े होने का साहस रखो, _ लोग ज्ञान देते हैं साथ नहीं..
लोगों के लिए आप तब तक अच्छे हो _ जब तक आप उनकी उम्मीदों को पूरा करते हो,

और आपके लिए उस समय तक सभी लोग अच्छे हैं _ जब तक आप उनसे कोई उम्मीद न रखो..

मदद करने की सबसे बड़ी बुराई ये है कि फिर ये हमेशा करनी होती है,

जब भी बंद करो _ उसी दिन _ पिछली सारी अच्छाइयां _ बुराई में बदल जाती है..

कभी – कभी अपने ही अपनों का ऐसा तमाशा बनाते हैं, _ कि वो अपना कहलाने के लायक ही नहीं रहते ,,,!
जो रिश्ता आपसे आपका स्वाभिमान छीन ले, वो रिश्ता _ रिश्ता नहीं, घुटन है..
“जो दूसरों पर आश्रित होते हैं _ वो हमेशा ही पराजित होते हैं “
तुममें और मुझमें बस इतना सा ही फर्क है, तुमने वो कमाया जिसे दिखाया जा सकता है,

मैंने वो कमाया जिसे दिखाया नहीं जा सकता, मेहनत दोनों में ही है.

जब हम किसी समस्या पर बहुत ज्यादा सोचने लगते हैं तो उसे और उलझा देते हैं.

सोचना जरुरी है, लेकिन बहुत ज्यादा सोचने से बचना चाहिए.

हमारा जीवन उस दिन से समाप्त होना शुरू हो जाता है,

जिस दिन हम उन मुद्दों पर चुप्पी साध लेते हैं _ जो मायने रखते हैं.

हमारे जीवन की सबसे बड़ी समस्या अपने और अपने परिवार के जीवनयापन की ही होती है ;

बाकी सब तो खड़ा किया गया समस्याओं का पहाड़ है _

अपने मन को दुविधा जनक स्थिति में नहीं पहुँचने देना ही, जीवन की कामयाबी की दास्ताँ है.

दुनिया मेँ रहते हुए दुनिया से अलग रहने की कला सीखेँ, _

_ कमल के फूल और हर भूल से सीखेँ.

अकेलेपन को बोझ समझने के बजाय, _

_ उसे अपनी रचनात्मकता व बौद्धिकता से जीवंत बनाएं.

जीवन में हर तूफान नुकसान करने ही नहीं आता,

कुछ तूफान _ रास्ता साफ करने भी आते हैं..

” सलाह, साथ और समय ” यह बिना मांगे देने पर अक्सर लोग इनका मूल्य _ सस्ता ही लगा लेते हैं.
अगर कोई आपको अपनी तकलीफ बताये तो उससे अच्छे से पेश आओ,

क्यूंकि आप सिर्फ सुन रहे हो और वो महसूस कर रहा है..

“कोई साथ दे ना दे, तू चलना सीख ले;

हर आग से हो जा वाकिफ तू जलना सीख ले;

कोई रोक नहीं पायेगा बढ़ने से तुझे मंज़िल की तरफ;

हर मुश्किल का सामना करना तू सीख ले “

परेशाँ होने वाले तो राहत पा भी लेते हैं,

परेशाँ करने वालों की मगर परेशानी नही जाती..!!

किसी को छमा कर देने पर भी _ उसके व्यवहार में बदलाव न आना _

_ आपको मिलने वाले एक और धोखे का प्रमुख संदेश है..

इन्सान सख़्त मिज़ाज कब बनता है ?

जब बहुत सारे लोग उसकी नरमी का ग़लत फ़ायदा उठा चुके होते हैं.

लोगों ने….. आपके साथ छल किया, और उन्हीं कष्टों ने आपको बदल दिया..
‘दुनिया में जितनी अच्छी बातें व संदेश हैं, वे दिये जा चुके हैं, अब नया कुछ कहने व देने को बाकी नहीं रहा है. अब जरुरत है, तो केवल उस पर अमल करने की.’

“All the good thoughts and advice has already been given out in the world and there is nothing really new to say. Now the only thing we need to do is to “FOLLOW” it. ”

मुझे अब बहुत ज्ञान नही चाहिए, _ जो मिल गया है उस पे चलने का अभ्यास चाहिए !!

I don’t need much knowledge now,, I need practice to walk on what I have got.

” खाली बैठे रहना फायदेमंद हो सकता है ” :->

हमारी ऐसी मान्यता हो गई है, की कुछ ना कुछ करते रहना चाहिए,

खाली बैठे रहने से अच्छा है, की कुछ पैसे कमा लो, किसी की सेवा कर लो, या कुछ पढ़ लो,

पर किसी भी काम के बगैर खाली बैठे रहने पर हमारा मन शांत होता है.

पता नहीं मैं अपनी ज़िंदगी में _ जीतूँगा या हारूँगा, _ पर मेरी ज़िंदगी की कहानी के _

किसी भी पन्ने पे, _ ये नहीं लिखा होगा कि, _ ” मैंने कभी भी हार मानी ”

Happiness को बाहर ढूढेंगे तो ना जाने कितना समय लग जायेगा खुशियाँ हासिल करने में,

इसे अपने अन्दर तलाशिये, जब खुशियाँ अन्दर से बाहर आएँगी तो स्थायी होंगी.

मैं अपनी मानसिक शांति को पुनः प्राप्त करना चाहता हूँ… मैं फिर से अपनी पुरानी जिंदगी में वापस जाना चाहता हूँ जहाँ खुशियाँ थी, धैर्य था, मस्ती थी, नादानी थी…जिंदगी की कोई खोज ख़बर नहीं थी बस अपने और दोस्तों में मौज थी…अब कहाँ मैं खुद की खोज और जिंदगी की तलाश में भटक गया…!!
दूसरो की फिक्र लेने से कुछ नही होगा, दूसरो की चिंता लेने की आवश्यकता नही है, कि वे क्या कहते है, फिक्र ही लेनी है, तो बस स्वयं की, किसी और की नहीं। दूसरे तो हर काम मे बाधा बनेंगे, उन्हें क्या पता है कि मुझे क्या अच्छा लगता है, क्या मुझे सुन्दर लगता है, उन्हें क्या पता है कि मेरा आनन्द क्या है। जो मेरे लिए सुन्दर है, जो मेरी प्रसन्नता है, जो मेरी ख़ुशी है, जो मेरा आनन्द है, वही मेरे लिए सत्य है, इसके अतिरिक्त कोई सत्य नही। दूसरो के अपने अनुभव है, वे मेरे अनुभव नही हो सकते। मेरा अनुभव, मेरा अनुभव है, शुद्ध प्रमाणिक, वही मेरे लिए सत्य है। दूसरों की राय की फिक्र करी कि भटके।

जिसको भीतर का स्वाद आने लगा, और भीतर की गंध आने लगी, फिर बाहर के मूल्यो का कोई अर्थ नही रह जाता।
व्यक्ति अपने आनन्द मे जीता है, व्यक्ति जीवन के महोत्सव मे जीता है। फिर बाहर के लोग क्या कहते हैं ? कौन फिक्र करता है।अच्छा कहे तो अच्छा, बुरा कहे तो अच्छा। सम्मान दे तो ठीक, अपमान दे तो ठीक।

आनन्द, न धन में है, न बडे मकान में है, न बड़ी बड़ी कारों में है, न उच्चे पदों में है, जब तक आदमी नशे में है, बेहोश है, तब तक किसी भी चीज़ से आनन्द उपलब्ध नहीं हो सकता । ध्यानी व्यक्ति ही, यानी होशपूर्ण जागृत व्यक्ति ही आनन्दित हो सकता है, ध्यानी व्यक्ति को ही धन में, बड़े मकान में या कारों में, पदों में आनन्द आता है, जो ध्यानी नहीं, उसे कभी आनन्द उपलब्ध नहीं हो सकता, उसे पूरे विश्व की सत्ता भी मिल जाए तो भी उसे आनन्द उपलब्ध नहीं हो सकता है । आनन्द तो अन्तस की स्थिति पर निर्भर करता है, अन्तस शान्त है तो आनन्द ।- ओशो

शुभचिंतकों को मेरे नाकाम होने, फ़कीर हो जाने का डर है. आगे का मालूम नहीं फिलहाल कुछ ना होने और चिंता मुक्त जीवन का आनंद ले रहा हूं.

अंजाम जो भी हो उसका ज़िम्मेदार सिर्फ और सिर्फ मैं होऊँगा, ये एहसास ही मुझे आज़ादी की अनुभूति करवाता है…

मुझे अकेला रहना अच्छा लगता है_

इसका मतलब यह बिल्कुल भी नहीं है कि_ मैं दुनिया की ख़बर नहीं रखता…!!

इंसान को अकेले रहने में उतनी मुश्किल नहीं होती, जितनी मुश्किल उस व्यक्ति के साथ रहने में होती है,

जिससे उसकी बनती नहीं है..

एक उम्र पर आकर हम समझने लगते हैं,, __ कि लोग अकेले रहना _ क्यों पसंद करते हैं !!
अकेले चलने वाले घमंडी नहीं होते, वो वास्तव में हर काम में अकेले काफी होते हैं..
मैं अकेला हूँ और मैं सबकुछ नहीं कर सकता,

इसका मतलब ये थोड़ी की मैं कुछ भी नहीं कर सकता.

जब से सुना वो हर जगह साथ है,

न जाने क्यूँ मुझे अकेलेपन से मोहब्बत हो गई..

अकेले रहने वाले लोग अपने आप में ही सम्पूर्ण महसूस करते हैं,

ये लोग खुद को ही अपना सबसे अच्छा दोस्त मानते हैं.

#एकांत अकेलापन नहीं है,

यह एक ऐसा एहसास है जिसकी कीमत हर किसी को नहीं पता है..

मनुष्य अपने एकांत में सबसे अधिक सुंदर है और सबसे अधिक सुखी भी..

.. किंतु साधारण मनुष्य यह देख नहीं पाता…. और यदि देखता है तो सह नहीं पाता…..

इंसान जब खुद का हो जाता है, उसे तन्हाई में सबसे ज्यादा मज़ा आता है .!
जो लोग तन्हाई पसंद करते हैं, _ उन्हें समझना आसान नहीं होता.
थोड़ा वक़्त लगेगा, पर यकीन मानो, अकेले बहुत सुकून मिलेगा.
अकेले रहने का आनंद लेना सीखें, क्योंकि कोई भी आपके साथ हमेशा के लिए नहीं रहेगा !
मरहम के लालच में अपनी दुखती रग का पता लोगों को देना…….बेवकूफ़ी की आखिरी हद है..
अगर सभी लोग एक ही इंसान के खिलाफ हैं तो समझ जाना चाहिए, वो इंसान बहुत काम का है.
तैरने के लिए नदी का गहरा होना भी जरुरी है,

जिससे बात करो उसका, कुछ तल होना भी जरुरी है,

हम समय बर्बाद नहीं करते, हर एक से बात नहीं करते,

कुछ तो दम हो कहने वाले में, सब से संवाद नहीं करते..

एक बार वर्तमान में जीने की कला तो सीखो; भूत, भविष्य, जीवन से चिंता, दुःख, तनाव सब गायब हो जाएंगे,

आप ऐसे आनंद में डूब जाएंगे जो अनमोल है, यही जीवन का परम सुख है..

मैंने जीवन में कुछ गलतियाँ की है जिनमे से है –

1. नकारात्मक व्यक्तियों पर अत्यधिक वक्त न्योछावर करना.

2. गलत लोगों के बीच रहक़र उन्हें खुश रखना.

3. प्रमुख कार्यो को छोड़ अनावश्यक कार्यो में संलग्न रहना.

” अब बस उसे ही याद करता हूँ, जो मुझे याद करता है.”

मोह, दर्द, तकलीफ, उम्मीद, बेबसी, सम्मान, अपमान, प्यार, मोहब्बत, डर, मृत्यु, जीवन एवमं रिश्तों से ऊपर उठ चुका हूँ.

मुझे रत्ती भर परवाह नही की दुनिया मुझसे क्या उम्मीद करती है और मैं उसके उम्मीदों पर कितना खरा उतरता हूँ.

_ अनगिनत चाहने वालों से, ” एक निभाने वाला बेहतर होता है ”

जब से मैंने अपने जीवन में ‘नो फर्स्ट कॉल’ की नीति अपनाई है, तब से मैं बहुत खुश रहने लगा हूँ.

पहले मैं किसी सगे संबंधियों से मिलने के लिए भी वक्त की भिक्षा माँगता था.

परन्तु अब न उनका कॉल आता है न मैं करता हूँ.

अब समझ आता है कि उन्हें कोई जरूरत नहीं थी मेरी, मैं ही उनके पीछे था.

न पूछा मैंने _ न उन्होंने ख़बर ली..

कुछ यूं _ अपनी जिम्मेदारियों में _ उलझे रहे हम…

मुश्किल और दुःख में फ़र्क करना सीखिए…

कुछ लोग रोने के इतने आदी होते हैं कि सिर्फ़ मुश्किलों को दुःख बताकर आँसू बहाने बैठ जाते हैं,

उन्हें ये समझाया जाना चाहिए कि रास्ते में पड़े भारी भरकम पत्थर को धक्का देकर हटाना मुश्किल मात्र है,

वो दुःख तब है जब धक्का देने के लिए तुम्हारे पास हाथ ही ना हो.

कई बार परिस्थितिओं को ये सोचकर accept कर लेना अच्छा होता है कि जो हो रहा है अच्छे के लिए हो रहा है,

अगर हम इस एक बात को दिल से accept कर लें तो, ज़िन्दगी के बहुत सारे तूफ़ान थम जायेंगे और धीरे-धीरे सबकुछ पटरी पर आने लगेगा.

हम जिंदगी में कड़े फैसले लेने में डरते हैं. हम ऐसा इसलिए नहीं करना चाहते हैं, क्योंकि हम दूसरों की नाराजगी मोल लेना नहीं चाहते हैं.

इस तरह के डर की वजह से निजी और प्रोफेशनल दोनों लाइफ प्रभावित हो सकती है. कड़े फैसले नहीं लेकर हम समस्याओं का समाधान नहीं करते हैं, उन्हें बढ़ाते हैं.

हमारी इस प्रवृत्ति से छोटी समस्या भी बड़ी हो सकती है. इसलिए जहां जरुरत हो, वहां हमें कड़े फैसले लेने से हिचकना नहीं चाहिए.

कोई चाहे आप पर जितना भी दबाव क्यों न बनाएं, पर निर्णय हमेशा खुद का लो ;

क्योंकि कल कुछ गलत होता है तो जान लो, वही लोग ये जिम्मेवारी नहीं लेंगे आप की ;

आप की अहित का कारण वो लोग हैं, वो अपना पल्ला झाड़ेंगे और बोलेंगे

उस वक़्त तुम ने क्यों नहीं विरोध किया.

यदि कोई आपसे भावनात्मक चोचले करके अपनी बेतुकी या गलत बात मनवाने की कोशिश करे तो उसकी बात कभी न मानें ;

क्योंकि ऐसे लोग आपको अपना गुलाम बनाना चाहते हैं _ और इनकी बातों में आकर इमोशनली ब्लैकमेल हो कर आपके द्वारा लिया गया निर्णय _

आगे चल कर _  आपको बरबाद कर सकता है.

लोगो की जिंदगी में जबरदस्ती घुस जाने से क्या होगा.? और मिलेगा क्या.?

सिवाय तिरस्कार, आत्मग्लानि एवंम नजरअंदाजी के…

कभी कभी हम किसी के बारे में अत्यधिक सोच लेते हैं और बाद में मिलता है

हमे अनोखा दर्द एवंम बेपनाह बुरा तजुर्बा….

” आप सही रहे ” उसके बाद भी लोग आपको न समझ पाएं, तो उनके लिए रोने की कोई जरुरत नहीं,

ऐसे लोगों से कहो – पतली गली पकड़ और निकल ; कोई जरुरत नहीं अब तेरी.

” अपने आप को दुःख देना बंद करो “

अगर आप खुद को दुखी करना चाहते हैं, तो आपको अंतहीन मौके मिलेंगे,

क्योंकि हमेशा कोई न कोई कुछ ऐसा करेगा, जो आपको पसंद नहीं आएगा..

किसको किसको समझाते फिरोगे, सोचने दो जिसे जो सोचना है ;

लोग उतना ही सोचेंगे, जितना उनका मानसिक विस्तार है !!

किसी पर ज्यादा नाराज होने से बेहतर है,

की अपने जीवन में उसकी अहमियत को कम कर दो..

कोई मेरा दिल दुखाता है तो मैं चुप रहना ही पसंद करता हूँ,

_ क्योंकि मेरे जवाब से बेहतर वक़्त का जवाब होता है..

मरहम के लालच में अपनी दुखती रग का पता_

_ लोगों को दे देना _ बेवकूफ़ी की आख़री हद है !

हमारी बुज़दिली मशहूर है जमाने मेँ,_ कि

_ हम बदला नहीं लेते, खुदा पे छोड़ देते हैं !!

जिंदगी भी उसका भरपूर साथ देती है जो अपने विचारों को दूषित नहीं होने देता

और संघर्ष के दम पर दुनिया जीत लेता है.

जितने राजदार कम बनाओगे, उतने ही धोखे कम खाओगे,

क्योंकि हमारी कमजोरियां ही दुश्मनों को ताकतवर बनाती हैं..

जब कोई करीबी इंसान अपनी औकात दिखा जाता है न, तो मुझे दुख नही होता

बल्कि खुशी होती है कि, चलो अच्छा हुआ ” छुटकारा मिला “

कुछ रिश्तों का टूटना ही बेहतर था, छूटने वाले का छूटना ही बेहतर था.

एक ही बात उसको कब तक समझाते, रुठने वाले का रूठना ही बेहतर था.

फिक्र है सबको खुद को सही साबित करने की,

जैसे ये जिन्दगी, जिन्दगी नहीं, कोई इल्जाम है..

एक हद के बाद इंसान, सब कुछ छोड़ देता है ;

शिकायत करना, मिन्नते करना, मनाना और फिर दिल ऐसा हो जाता है,

कि कोई बात करें तो ठीक, कि ना करें तो भी ठीक ;

क्योंकि पता लग चुका होता है, कि दुनिया बहुत झूठी और मतलबी है.

हम जितना दुःख के बारे में सोचते हैं, लिखते हैं..उतनी ही मानसिक बेचैनी और अस्थिरता महसूस करते हैं। अब इसीलिए मैं अब खुशियाँ चुनता हूँ। हर छोटी-छोटी चीजों में सकारात्मक कोण ढूँढता हूँ..मुझे अब दुःख से लगाव नहीं रहा क्योंकि दुःख समय द्वारा रचित क्षणिक परीक्षा है जो हमे देनी होती है !
सहारे इंसान को खोखला कर देते हैं और उम्मीदें कमज़ोर कर देती हैं,

अपनी ताकत के बल पर जीना शुरू कीजिए,

आपका खुद से अच्छा साथी और हमदर्द कोई ओर नहीं हो सकता..!!

मन को खुश करने के लिए जीने वाले लोग, जानवर से भी गए गुजरे होते हैं. _ ये लोग

अपने मन के गुलाम बने रहते हैं और मन, इनकी ज़िन्दगी बरबाद करता चला जाता है..

कभी कभी लाख कोशिशों के बाद भी कुछ ना मिले या लाख जतन से सहेजते संभालते भी कुछ छिन जाए,_

_ तो जीवन कुछ समय के लिए थोड़ा कम सुंदर ज़रूर हो सकता है, __ ” किंतु यह कुरूप कभी नहीं होता “

मन को कंट्रोल करने के लिए सिर्फ ये देखो कि आप कुछ गलत तो नहीं कर रहे,

गलत है तो मत करो और सही है तो मन भर के करो.

जितना आदर्शवादी और संस्कारी होकर अपने रिश्ते में हम प्यार करते हैं और सबको खुश रखना चाहते हैं उतना ही दुख मिलता है और कोई भी दिल की फीलिंग्स को नहीं समझता है. फिर एक तरफा त्याग क्यों करते रहना ??

“जिंदगी अपनी भी होती है और अपनी खुशी को भी जीना चाहिए जैसे भी”, बाकी कोई अपना नहीं होता है चाहे जितना करो.

आपका जीवन आपका अपना है, दूसरे लोग आपसे जो होने की उम्मीद करते हैं, वह बनने की कोशिश में इसे बर्बाद न करें;

हर किसी को खुश करने के लिए अपनी खुशियों का त्याग न करें, जो आप बनना चाहते हो वो बनो..

अगर किसी से आपको तकलीफ है या कोई कष्ट है, कोई आपको प्रेम नहीं कर रहा है तो इतनी भर बात को इतना बड़ा मत बनाओ कि आप अपने ही शरीर और मन को ख़राब करने लग जाओ.

जब हमारा मन दुःखी होगा, तब हमारे शरीर में विषैले तत्व पैदा होते हैं और ये विषैले तत्व हमारे शरीर को मारते हैं.

ज़िन्दगी में हर समस्या का निदान आगे बढ़ने में है.

यदि आप बैठ कर सोचेंगे कि आखिर यह मेरे साथ ही क्यों हुआ,

तो आप और अपने जीवन को स्वयं बर्बाद कर रहे हैं.

हमारी सबसे बड़ी कमजोरी हार मान लेना है,

सफल होने का सबसे निश्चित तरीका है _ एक बार और प्रयास करना..

जब तक आपका सामना आपकी सबसे बड़ी कमजोरी से नहीं हो जाता,

तब तक आपको अपनी सबसे बड़ी ताकत के बारे में पता नहीं चलता..

जिंदगी में कभी कभी ऐसा भी मोड़ आ जाता है, कि हम खुद के बिछाए हुए जाल में खुद ही फंस जाते हैं !

और लाख कोशिशों के बाद भी नहीं निकल पाते !!

किसी सही इंसान के साथ इतना भी ग़लत मत करना कि उसके साथ किए धोखे का पछतावा सारी ज़िन्दगी करना पड़े.
उम्र को दराज में रख दें, उम्रदराज न बनें..

एक दिन शिकायत तुम्हे वक़्त और जमाने से नहीं ….खुद से होगी,

कि ज़िंदगी सामने थी और तुम दुनिया में उलझे रहे…!!!

जीवन भर लोगों ने मुझे सदैव विकल्प बना कर ही अपने जीवन मे शामिल किया है.. जब मन किया मुझे याद किया..मन किया मुझे दरकिनार कर दिया…अब बस हुआ..कब तक दूसरों के मनानुसार चलूंगा..अब मैं अलगाव का दर्द सह लूँगा…अकेला रह लूँगा परन्तु ये ढोंगी लोगों से दूर रहना ही पसन्द करूँगा..!!!
कठिनाई से प्राप्त होने वाली चीजों का मूल्य एवम महत्व अधिक होता है… इसीलिए जीवन मे भी कठिन बनिए…

_ लोग आपकी सराहना करेंगे…आसानी से उपलब्ध होने पर ही लोग आपको तुच्छ समझ लेते हैं….!!!

गुस्से में कभी भी अपनी जगह न छोड़ें, कोई न कोई आपकी कमी को पूरा कर ही देता है ;

_ फिर वापसी पर आपकी वो अहमियत नहीं रहती _ फिर चाहे वो मकान हो या किसी का मुकाम हो..

यश लूटने में एक बुराई भी है, अगर हम इसे अपने पास रखना चाहते हैं तो हमें अपनी जिन्दगी

लोगों को खुश करने में और यह जानने में बिता देनी होगी कि _ उन्हें क्या पसन्द है और क्या नहीं.

जो चीजें आपको तोड़ती है, कमजोर करती है… आपको जीवन मे आगे बढ़ने नही देती… उसका पीछा करना बंद करो…

वरना ये आपको जीवन मे कभी आगे बढ़ने नहीं देगी…

कई बार आप सही होते हैं, फिर भी लोग आपको सही नहीं समझते हैं.

उस वक्त सबसे जरुरी यह होता है कि आप सही रास्ते पर चलते रहें,

लोगों की गलतफहमियाँ वक्त के साथ खुद- ब – खुद दूर हो जाएँगी.

बहुत कोशिश करता हूँ अपनों को साथ लेकर चलूँ… बहुत हद तक सोचता हूँ ये अपने हैं… कहीं पीछे न छूट जाएं…परन्तु उल्टा वे मुझे ही डसने की कोशिश करते हैं। अब मैं केवल खुद के लिए जीता हूँ… मुझे अब किसी से वास्ता नहीं रखना…!! उन्हें मैं नहीं दिखता… मेरे उपकार नहीं दिखते… वक्त की नज़ाकत पर यक़ीन है मुझे… जब मेरे दिन लौटेंगे, तब सुख में भी मेरे साथ केवल मैं होऊंगा..!!!

” जब रिश्ते अपशब्दों का शोर मचाते हैं, बेहतर है,

कान ढ़क, गहरी चुप्पी ओढ़, दूर निकल लिया जाये…”

जिसने आपको रुलाया हो… आपको जीवन के सबसे न्यूनतम बिंदु पर ला दिया हो…जिसने आपके आँसुओ को महज़ पानी समझा हो…वे आपके अपने कदापि नहीं हो सकते…कभी नहीं…!!!

मेरे भीतर वो ताकत ही नहीं रही की मैं टूटते हुए रिश्तों को बचाने के लिए स्वयं को सर्वत्र झोंक दूँ … अब मुझे परवाह ही नहीं किसी की ,,_  इसे अहंकार कहो या जल्दी गिव अप कर देने की कमजोरी..

मगर इन सब में फँस कर मैं स्वयं को दुःख नहीं दे सकता ,,_ बहुत झेला हूँ यार,, _ अब और नहीं ..!!!

मैं दर्द में अकेले रहना ज्यादा पसन्द इसलिए करता हूं क्योंकि…मुझे पता है कि

मेरे पास दर्द का मजाक उड़ाने वालों की भीड़ है समझने वालों की नहीं.

जहां दूसरों को समझाना कठिन हो जाए, वहां स्वयं के मन को समझाकर भावनाओं को खुद तक सीमित कर लेना बुद्धिमानी है.

यदि आपको अपने जीवन में सुकून एवं शांति चाहिए तो लोगों से अपेक्षा कम से कम ही रखिए, और बहुत ज़रूरत पड़ने पर ही उन्हें याद करें..

हद से ज्यादा अपेक्षा और बेवजह की आशाएं आपको जाने-अनजाने में दुःख ही पहुँचाते हैं, इसलिए अपने हिस्से का कर्म करके भूल जाइए और खुश रहें..

जीवन आपकी भावनाओं और वास्तविकता के बीच एक समझौता है, _

_ जीवन के हर पड़ाव पर आपको अपनी भावनाओं को छोड़ना होगा और वास्तविकता को स्वीकार करना होगा..

जब हम अपने जीवन का लछ्य किसी दूसरे के प्रभाव में आ कर चुनते हैं तो,

_ उसी छण हम एक भीड़ का हिस्सा हो जाते हैं !!!!

रुकना है नहीं, _ कभी कुछ बदलने के लिए और कभी खुद को सुधार कर _

_ फिर कुछ करने के लिए..

जरूरी तो नहीं कि जिससे रोज मिल रहे हों, बातें हो रही हो उनसे ये अपेक्षा भी रखी जाए कि वे हमारा सम्मान करें, हमारे मुताबिक़ हर काम करें, हर कार्य मे मेरा साथ दें या हमारे हिसाब से खुद को बदल दे,

ऐसी उम्मीद रखना मूर्खता भरी होगी, क्योंकि उम्मीद टूटने के बाद दुःखी भी केवल हम ही होंगे !

कुछ वर्ष पूव मुझे लगता था कि जीवन में कोई तो बात करने वाला होना चाहिए…जिससे अपनी खुशी, कार्य, दुःख साझा कर सकूँ..परन्तु जैसे जैसे वक्त बीता, लोगों की फितरत बदली..अब ऐसा लगता है कि इस जीवन युद्ध में खुद ही..स्वयं को ही स्वयं का पूरक बनाना होगा..!!
घाव गहरा था बहुत, पर दीखता न था ; दिल भी बहुत दुखता था, पर कोई समझता न था ;

बाद में सब कहते तो हैं कि हमसे कह सकते थे ; पर जब- जब कहना चाहा था ” कोई सुनता न था “

मैंने विगत सालों में एक बात महसूस करी कि जो खुद पर बीतती है, वो दर्द सिर्फ आप महसूस कर सकते हो, इसीलिए मैं अपने इमोशन अथवा दुःख किसी से साझा नहीं करता. क्योंकि ऐसा करने के पश्चात् लोग हमें कमजोर समझ लेते हैं, बेफिजूल का ज्ञान देने लगते हैं, इधर उधर कह डालते हैं, मजाक भी बनाते हैं.. जोकि बाद में काफी आहत करता है, इसलिए अपनी व्यक्तिगत समस्याएं अपने पास ही रखना सबसे बेहतर है..!!!

इसलिए मेरा ऐसा मानना है कि कोई और नहीं सिर्फ आप ही खुद को मोटिवेट करके ऐसी सिचुएशन से बाहर निकालने में हेल्प कर सकते हैं, अच्छे मित्र बनाकर, उन से बात करके, उनके साथ टाइम एक्सपेंड करके, यकीन से नहीं कह सकता कि, ये बहुत आसान होगा, क्यूंकि आपका भरोसा सबसे उठ चुका होता है, तो एक बार फिर किसी पर भरोसा करना बहोत मुश्किल होता है, फिर भी कोशिश करनी चाहिए..

” कुछ भी इंपॉसिबल नहीं है “

ज़िन्दगी में अब तक के मिले अनुभवों के आधार पर मैंने समझा कि एक निश्चित वक्त तक ही हम किसी के लिए अच्छे या मनोरंजक इंसान होते हैं, उसके बाद हम उनकी ज़िन्दगी में गलत या बोरिंग पर्सन बनकर मात्र उनकी आवश्यकता के घटक बनकर रह जाते हैं, जिसे वह अपनी इच्छानुसार ही इस्तेमाल करते हैं.
एक उम्र आता है जब इंसान को सब चीजें एक सी लगती है सही गलत में द्वेष करना भूल जाता हैं, हॉ ठीक है कोई बात नही, छोड़ो जाने दो, जैसी बातों का आदती हो जाता है, निरंतर कुछ खोते जाना है फिर भी आगे बढ़ते रहना है, इस बात से भलीभांति परिचित हो जाता है….हँसकर बातों को टाल देने की आदत विकसित कर लेता है,

ऐसा लगता है जिंदगी का बहाव किसी शांत जलाशय की तरह अपने वेग में चलते जा रहा है, वही शून्यवस्था जिंदगी की परिपक्वता है जहां आप दूसरो से बेहतर नजरिये से जिंदगी को देखते है !!

स्वयं की तलाश में मैं जीवन के उस पड़ाव पर आ गया हूँ जहाँ अपना-पराया में कोई भेद नहीं दिखता …

सभी समान लगने लगे हैं…इन सब में अहमीयत्ता केवल स्वयं की रह जाती है.

मौन ताकत बन जाता है और रब सबसे अच्छा मित्र…!!

जैसे-जैसे हम उम्र की सीढ़ी चढ़ते हैं..तब हमें एहसास हो जाता है कि यह दुनिया इमोशन से नही परन्तु प्रैक्टिकल आधार पर चलती है। यहां इमोशनल होकर फैसले नही लिए जाते..ये जिंदगी व्यवहारिक एवम समायोजित होकर जीने के लिए ही मिला है… भावों के सागर में हम केवल अश्रु रूपी मोती ही पाते हैं।

यदि आप जीवन में किसी को खुद से भी अधिक महत्व देना शुरू कर दिए हैं… तो सम्भल जाईए क्योंकि बदले में दर्द, नाउम्मीदी एवमं निराशा के सिवा कुछ नहीं मिलने वाला और अवसाद के गिरफ्त में जाएंगे सो अलग….!!!

उम्र के उस पड़ाव पर हूं कि…अब किसी का साथ नहीं भाता, दरअसल जब कोई साथ होता है तो..जिंदगी बहुत आसान लगने लगती है और जब वो छोड़ जाते हैं. तो हम जीवन की सबसे निचली पायदान पे पहुंच जाते हैं, जहां सिवाय दर्द, बेबसी, अवसाद के कुछ नहीं मिलता,

इसलिए अब मैं एकांत से नाता जोड़ लिया हूं.

उम्र का एक स्टेशन पार कर जाने के बाद _आदमी बेहतरीन बनने की चाह त्याग देता है.. ;

उसे इस बनावटी दुनिया से अधिक मोह नहीं रह जाता, _ क्योंकि वह थक चुका होता है_

_ अतीत में निभाए गए कई रिश्तों से…और उनसे मिले निराशजनक परिणामों से _

_ इसलिए अब वह अपनी ही विचित्र सी धुन में मगन रहने लगता है.

कभी-कभी किसी का रवैया इतना बुरा लग जाता है कि हम उनसे दुबारा बात करना नहीं चाहते…

इसीलिए हम धीरे-धीरे उनके जीवन से निकल जाने का प्रयत्न करने लगते हैं.._ फिर उन्हें भनक लगे बिना स्वतः किनारे हो जाते हैं.

कोई आप को एक बार – दो बार दुःखी कर सकता है. इसके बाद भी यदि

वह इंसान आपको तकलीफ दे रहा है तो, गलती शायद आपकी है.

आप उसे मौका दे रहे हैं, आपको हर्ट करने का ” उस से दूर न हो कर “

“-जब रिश्ते रुलाने लगें _ तब इग्नोर करना सीखो _ जिंदगी आसान हो जाएगी “,,

अक्सर, हम जिन्हें अपना समझकर समर्पित रहते हैं ;

चालाकियां बताती हैं उनकी __ वे समर्पण के काबिल नहीं.

मैं हर पल अपने लोगों को _ खोने से डरता हूँ, लेकिन कभी कभी खुद से _

_ ये पूछ लेता हूँ कि _ कोई है तेरा _ जो तुझे खोने से डरता हो ?

ज़िन्दगी भर उन रिश्तों के, पीछे भागता रहा,_ जो कभी अपने थे ही नही,

जब होश आया तब देखा,_ जो रिश्ते सच मे अपने थे,_ उन्हें तो मैं_ संभाल पाया ही नही..

— हम ऐसे लोगों पर अधिक ध्यान देते हैं ” जो हमें नज़रअंदाज़ ” करते हैं,

और जो हम पर ध्यान देते हैं ” उन्हें हम नज़रअंदाज़ ” करते हैं..—

कोई भरोसा तोड़े तो _ उसका भी धन्यवाद करो _ क्योंकि

वो हमें सिखाते हैं कि _ भरोसा हमेशा _ सोच- समझ कर करना चाहिए..

कभी- कभी थोड़ी दूरी बनाने से लोगों को यह पहचानने में मदद मिलेगी,

कि आप वास्तव में उनके लिए कितना मायने रखते हैं..

यदि आपके निजी जीवन के द्वन्दों मे कोई दखल दे रहा है, मतलब उसने आपके कमजोरी को भांप लिया है__ यह वक्त है आपके मजबूत होने का और उन लूप होल्स को बन्द करने का जो आपको कमजोर कर रहा है.

यदि किसी भी व्यक्ति को आपकी कमजोरी, आपकी दुर्बलता के बारे में पता चला… तो कोई भी हो, वह आपका सगा-सम्बंधी भी क्यूँ न हो… उसका फायदा जरूर उठाएगा…!!!

बुद्धिमान आदमी मूर्ख बनता हुआ प्रतीत हो सकता है, लेकिन उसे कोई मूर्ख बना दे ये भूल है ;

मूर्ख लोग बनते हैं, जो उसके आगे के प्रोग्राम को समझ नहीं पाते “ बुद्धिमान को मूर्ख नहीं बनाया जा सकता ”

अक्सर लोग इसलिए आप की खुशियां बर्बाद करेंगे, क्योंकि उनके पास कुछ अच्छा करने के लिए नहीं है, या वह अपनी जिन्दगी से नाखुश हैं. इसलिए अपने रुख पर अडिग रहो.
हर व्यक्ति को खुश रखने की कोशिश करने वाला व्यक्ति एक दिन सबसे अकेला हो जाता है. अतः हमें  एक सीमा के बाद अपने मन की ही बात सुननी चाहिए.

हम लाख किसी के लिए अच्छा करते रहें. लेकिन, हमारी एक गलती पिछली सभी अच्छाइयों को धो कर रख देती है. हम लाख किसी की फिक्र करें, लेकिन यदि किसी समय हम किसी एक मौके पर कुछ भूल गए, तो सारा पिछला किया कूड़े के ढेर का हिस्सा बन जाता है. इसलिए आप कुछ भी करके किसी को हमेशा खुश नहीं रख सकते या यह कहें कि आप कुछ भी करके सबको खुश भी नहीं रख सकते. क्योंकि, लोगों की आपसे अपेछाओं का कोई अंत नहीं है. जैसे ही आप उनकी एक अपेछा पर खरे उतरे, आपके लिए तुरंत एक नयी शर्त उनके मन में तैयार हो जायेगी. इसलिए, अपना काम पूरी ईमानदारी और निष्ठां से करते रहें और आगे बढ़ते चलें,

क्योंकि हमेशा सबको खुश रख पाना पूरी तरह असंभव है.

अपने सपनों का पीछा करें और उन्हें पूरा करने की कोशिश करें. अगर आप ऐसा करेंगे, तब आप बहुत अच्छा जीवन जिएंगे. जो लोग अपनी पसंद का काम करते हुए जीवन व्यतीत करते हैं, वह अपने लाइफ को इन्जॉय करते हैं और ऐसे लोग ही खतरा उठाने का साहस भी करते हैं.
अपने आप को अपने लिए समय दें. काम और आराम के बीच संतुलन खोजें. ” जाओ दुनिया की सैर करो,”

ऐसे लोगों को खोजें, जो आपको महत्व देते हैं. अतीत में मत जियो, तुम्हारे पास देखने के लिए और भी बहुत कुछ है.

वहां जाएं जहां आप सबसे ज्यादा जीवित महसूस करते हों.

जो व्यक्ति दूर दृष्टि रख कर चलता है अर्थात आगे की ओर सोच कर कदम रखता है, जिस व्यक्ति में योजनाबद्ध तरीके से चलने की आदत है, जिसने अपने आपको पूरी तरह व्यवस्थित किया हुआ है, अपने ह्रदय को आनन्द से भरने की आदत है, जो महापुरुषों की तरह जीवन जीता है, किसी के सामने जिसके हाथ नहीं फैलते, जो दूसरों को आदर देना जानता है लेकिन स्वयं आदर पाने की कामना नहीं करता, जिस व्यक्ति का ह्रदय विशाल है, जिसको प्रेम बाँटना आता है – ऎसी सारी परिभाषा को जोड़कर मनुष्य का स्वस्थ होना कहलाता है.
जिंदगी बहुत छोटी है. यह केवल उन लोगों के लिए लंबी है, जिनकी हालत दयनीय है. इंसान के पास जो विशाल संभावना है उसको देखते हुए हमें जो जिंदगी दी गयी है, वह बहुत ही छोटी है.

लेकिन, उसमें भी लोग बोर हो जाते हैं और इस जीवन की सरलता को जाने बिना ही अपने आप को खत्म कर लेते हैं.

क्योंकि लोगों के शारीरिक और मानसिक नाटक_ जीवन के अस्तित्व की वास्तविकता से_ कहीं ज्यादा बड़े हो जाते हैं.

जब आप अपने घर की सफाई को ले कर इतने ज्यादा सतर्क रहते हैं, तो फिर अपने दिमाग को ले कर क्यों नहीं ? क्यों आप किसी व्यक्ति को अपने दिमाग में कूड़ा भरने की इजाजत देते हैं ?

…………….इस बारे में सोचें, ताकि आप का दिमाग बेहतर काम कर सके.

कई लोग यह समझ नहीं पाते कि किसी की बुराई, गॉसिप, नकारात्मक विचार दरअसल दिमाग के लिए कूड़ा ही है. ये न केवल आपकी कार्यछमता कम करते हैं, बल्कि लोगों से आप को दूर भी करते हैं.

……………………….इसलिए दिमाग में न जमा होने दें, विचारों का कूड़ा. 

जब हम अपने घर की साफ सफाई और रंग रोगन आदि करते हैं तो हमारी दिनचर्या अस्त व्यस्त हो जाती है और हमें कई परेशानियाँ होती है. _ लेकिन कार्य पूरा होने के बाद बहुत सुकून मिलता है.

इसी प्रकार जीवन की उठा पटक भी अंततोगत्वा सुकून देती है, क्योंकि इस उठा पटक मे हमारे जीवन का बहुत सा कचरा साफ हो जाता है.

जिस दिन मैं दुनिया से चला जाऊंगा उस दिन लोग मुझे याद करेंगे, अगर आप ऐसा सोचते है तो ये आपकी गलतफहमी है, आपके आस पास बहुत से लोगो की मौत हुई है आप किसको याद करते हो ? लोग केवल इंसान के अच्छे कर्मों को याद करते है. इसलिए इस गलतफ़हमी में न रहे कि आपके चले जाने से किसी को कोई फर्क पड़ेगा.

इसलिए सिर्फ अच्छे कर्म करें और अपने लिए जीना शुरू करें। लोगों की ज्यादा परवाह न करें, या किसी बात के लिए दुःखी न होयें. एक दिन सबको चले जाना है. जीने पर ध्यान दें न की चिंता, तनाव, दुःख और काम चोरी पर.

कुछ लोग इतने सताये हुए महसूस करते हैं इस दुनियाँ में _ जैसे उनके आस – पास सब दुश्मन ही भरे पड़े हैं !_ जबकि ऐसा होता नहीं, _ बस मन का वहम होता है, _ और ज़िंदगी भर इस भ्रम में जीते रहते हैं..

अगर इंसान किसी के साथ दो पल बैठ कर हंसी मज़ाक न करे और बातें ना करे, __ अकेले – अकेले रह कर ज़िंदगी गुजारे , _ तब उसको ये सारी दुनियाँ मतलबी और दुश्मन ही नजर आती है..!!

जीवन में हर समस्या के अंदर एक उपहार होता है.. इसलिए जब आप समस्या का सामना करें तो परेशान न हों _

_ इसका अंत आपकी अपेक्षा से अधिक सुंदर हो सकता है.

आप किसी इंसान का दिल तब तक दुखा सकते हैं, _

_ जब तक वो आप से प्रेम करता है ..

शायद मुझे अब तक सब से अधिक गलत समझा गया है लेकिन इसका मुझ पर कोई असर नहीं ;

कारण केवल इतना है कि, मुझे सही समझे जाने की जिज्ञासा नहीं,

यदि वे सही नहीं समझते तो यह उनकी समस्या है, यह मेरी समस्या नहीं है,

यदि वे गलत समझते हैं तो यह मेरी नहीं उन की समस्या है, उन का दुःख है ;

मैं अपनी नींद नहीं खराब करूँगा, यदि वे मुझे गलत समझ रहे हैं..

मैं इस सच को स्वीकार कर चुका हूँ, कि मैं अकेला हूँ, मेरे साथ कोई नहीं है ;

इन सालों में मैंने बहुत कुछ देख लिया है, और बहुत कुछ सीख लिया है ;

अगर आप कुछ हैं तो ही आप के अपने भी आप के साथ आएंगे, आप के काम आएंगे, वरना कोई नहीं ;

कमजोरों का साथ कोई नहीं देता है, भले ही वह अपने ही क्यों ना हों, सगे ही क्यों ना हो ;

जब साथ देने की बात आती है तो वह कमियां गिनाने लग जाते हैं ;

कमियां मुझ में थीं, इस कारण आप ने मेरा साथ नहीं दिया, कमियों के बाद भी मेरा साथ देते, तभी तो अपने होते ;

लोगों का साथ दिया दुनिया का साथ दिया, लेकिन मेरा साथ आप ने कभी नहीं दिया ;

मैं इस बात को स्वीकार कर चुका हूं, कि मैं अकेला हूं, मेरा कोई नहीं है ;

यह बात अपने आप से पूछो, कि दिखावा करने के लिए आप ने बाहर बहुत कुछ दान दिया ;

लेकिन अपने घर में जिनको जरुरत थी, लेकिन आप ने उनको नहीं दिया ;

मैं इस सच को स्वीकार कर चुका हूँ, कि मैं अकेला हूँ, मेरे साथ कोई नहीं है ;

ये जो अपने होने की आड़ में लोग हमारी जिंदगी में दखल देते हैं,_ इनके जीवन को

जरा गौर से देखना _ ये वही लोग हैं जो खुद बहुत ग्लानि में जी रहे होते हैं _

_ ये स्वयं के ही बहुत बड़े विरोधी हैं_ वो तुम्हारा समर्थन क्या करेंगे_

खैर मरने से पहले जग जाओ _ दोनों बाहें फैला के समेट लो अपनी जिन्दगी को_

_ बाद में वो भी खाक तुम भी खाक..

‘नक़ाब का सही मतलब, रिश्तेदारो से ही बेनकाब होते हैं, _ कहने को अपने होते हैं, पर जानें कब गैरों में शामिल होते हैं ,_ मीठी छुरी से क़त्ल कर के झुठे आंसू बहाने में माहिर.. ये दो चेहरे रख, _ उसे बखूबी निभाने वाले ये _ बेवफाई का सही वक्त, चुनने का हुनर कोई इनसे सीखे _ ‘ घर होते हुए, बेघर बनाना कोई इनसे सीखे ‘

” जो रिश्तेदार और लोग आप की सबसे बड़ी खुशखबरी में भी खुश न हुए हों, _

_ ऐसे रिश्तेदारों और लोगों को आगे से कोई ख़ुशख़बरी मत देना “

कितनी ज्यादा गलतफहमी होती हैं ना हमे कि हम किसी के खास है

पर हकीकत तो कुछ और ही होती हैं
हमे लगता है हमारा प्यार करना, हमारा नाराज होना ये सब सामने वाले पर असर करता है पर नही
वो सिर्फ एक दिखावा होता है वो सिर्फ एक झूठ होता है
जो हमे ये यकीन दिलाने k लिए बोला जाता है कि हम खास है
उन्हें कोई फर्क नही पड़ता कि आप दर्द में हो या किसी मुसीबत में उन्हें बस अपने मतलब से मतलब होता है
अगर आप खुश हैं तो वो आपसे प्यार भरी बातें करते हैं
और अगर आप दर्द में है तो फिर उनके पास खुद उनकी कई समस्या है उनके पास खुद के लिए टाइम नही
तो आपके दर्द को सुनने का कैसे होगा
इस दुनिया मे सब अपने मतलब से ही किसी न किसी के करीब जाते हैं
कोई किसी का खास नही होता
सब वक्त की बात होती है
अगर वक्त अच्छा है तो आप लोगों की जान है
और अगर आपका वक्त खराब है तो आप लोगों के लिए अंजान
ये ही दुनिया की हकीकत है..

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected