My Favourites – 2022

जिंदगी में ऐसे मौके भी आते हैं, जब आप लोगों की मदद के मोहताज होते हैं, और लोग मदद भी करना चाहते हैं,

लेकिन आपके स्वभाव और खराब आदतें देखकर, आपकी मदद नहीं कर पाते.

आज रास्ता बना लिया है तो, कल मंजिल भी मिल जाएगी._

_ हौसलों से भरी यह कोशिश एक दिन जरूर रंग लाएगी.

परिस्थिति बदलना जब मुमकिन ना हो तो मन की स्थिति बदल लीजिए, _

_ सब कुछ अपने आप ही बदल जाएगा ..

लोग आप को तब ज्यादा पसंद करने लगते हैं, जब आप अपने खुद के विचार लोगों के सामने रखते हैं, _

_ बजाए दूसरों के विचारों पर हां करने के ..

आपका कर्तव्य क्या है ? _खुश लोगों की वजह से यह विश्व चल रहा है _ और हम

इस विश्व का हिस्सा हैं, ” इसलिए खुश रहना हमारा कर्तव्य भी है और अधिकार भी “

जो भी करें, मन से करें,

कर्म जब आनंद देने लगता है, _ तब मिलकर ही रहती है सफलता..

अवसरों को हाथ से जाने न दें और अपने भविष्य को आगे बढ़ाएं _

क्योंकि जब आप उन्हें लेना बंद कर देंगे तो जीवन आपको अवसर देना बंद कर देगा.

जब आप अपने जीवन के उज्ज्वल पक्ष को देखते हैं,_

_ तो आपके जीवन का अंधेरा अपने आप गायब हो जाता है..

जो छोटे कामों के पीछे बहुत ज्यादा पड़े रहते हैं, _

_ वे अकसर बड़े कामों के लिए नाकाबिल बन जाते हैं..

आजाद कर दो उन परिन्दों को, _ जो आपके साथ रहना खुद की तौहीन समझें,

_ सबको समेटने की जबरदस्ती, हमें मिटा देती है !

Confidence यह नहीं है कि लोग आपको पसंद करेंगे ही,

_ confidence यह है कि _ जब वो पसंद ना भी करें _ तब भी आप ठीक हो..

ज़िन्दगी में एक बात सीख लो मेरे यार, किसी के लिए अगर आप जरुरी हो तो,_

_ कल भी उतने ही जरुरी होंगे, इसका भरोसा नहीं..

जरूरत से अधिक आत्मग्लानि भी आपको पुनः उठ खड़े होने से रोकती है…

_ इसीलिए स्वयं के साथ नरमी से पेश आएं और अपने आप को माफ़ करना सीखें…!!!

सृजन कर्ता हर परिस्थिति को झेलते हुए आगे निकल जाते हैं_ और बुजदिल_

_ दुसरो को ब्लेम करने में, खुद की सफाई देने में अपना दुर्भाग्य गा रहे होते हैं.

कोई दूसरा आपको चोट नहीं पहुंचा सकता, _ यह आप ही हैं

_  जो खुद को चोट पहुँचा रहे हैं और हथियार आपके अपने विचार हैं..

आप जैसे हैं, यह आपके साथ हुई घटना का परिणाम नहीं है,_

_ यह इस बात का परिणाम है कि आपने अपने अंदर क्या रखने का फैसला किया है.

” आपको वह मिलता है जिस पर आप ध्यान केंद्रित करते हैं, _

_  इसलिए उस पर ध्यान केंद्रित करें जो आप प्राप्त करना चाहते हैं “

जिस इंसान की हर बात आप को सोचने पर मजबूर कर दे, _

_ उस इंसान के साथ कभी दुश्मनी मत करना !!

” लोग आपके बारे में बहुत सी चीजों को नकारते हैं _

_ यह आपको तय करना है कि आपके लिए क्या अच्छा है और क्या नहीं “

तुम जिस बात को समझ लेते हो, वो बात तुम्हें कभी परेशान नहीं कर सकती, _ यदि फिर भी

वो बात तुम्हें परेशान करे, तो समझ लेना कि तुम्हें समझ नहीं आई _ सिर्फ तुमने सिर हिला दिया है..

कुछ समस्याएं जो हमारे पास है, उनके बारे में सोचकर दुःखी होने से अच्छा है _

_ हम ये सोचकर खुश रहें कि बहुत ऐसी समस्याएं हैं _ जो हमारे पास नहीं है.

उन चीजों के बारे में चिंता क्यों करें जिन्हें आप नियंत्रित नहीं कर सकते _

_ जब आप उन चीजों को नियंत्रित करने में खुद को व्यस्त रख सकते हैं जो आप पर निर्भर हैं ?

” कौन, किसकी मदद करता है “? आपसे कम ज्ञानी इंसान, आपसे मदद लेकर वास्तव में आपकी ही मदद करता है.

_ क्योंकि वह निम्न स्तर पर रहकर भी आपको ऊपर उठाता है.

बिना किसी स्वार्थ के न कोई बात करता है न कोई मिलना चाहता…

_ दुनिया इतनी काम्प्लेक्स हो गई है कि_ कौन भीतर से कैसा है…उसका पता लगाना भी मुश्किल है….!!!

कुछ क्षणिक लोग ज़ीवन को स्थाई रूप से नरक बना कर चले जाते हैं _ और हम

_  उन बुरे अतीत से लड़ने में ही अपना वर्तमान, भविष्य सब कुछ नष्ट कर लेते हैं..

यह दुनिया है जनाब, यहां मुफ्त में मशवरे मिल जायेंगे हज़ार _

_ पर जब बात जिम्मेवारी की आएगी, _ तो कोई नही होगा तैयार ..

जो तुम्हे धोखा दे, समझना की बड़ा गरीब है, तुमसे ज्यादा गरीब है, तुमसे ज्यादा बड़ा भिखारी है, उस पर दया करना, _

_ इसलिए नहीं की तुम्हारी दया से वो बदल जायेगा _ वो बदले ना बदले लेकिन तुम बदल जाओगे.

जब कोई धोखा दे जाए तो शांत रहिएगा, क्यूँकि जिन्हें हम जवाब नहीं देते _

_ उन्हें वक़्त जवाब देता है, _ और वक़्त के फेर से कोई बच नहीं पाया है.

जिंदगी में कोई भी चीज इसलिए हासिल करने की कोशिश करें _ _ क्योंकि उससे

आपको ख़ुशी मिलेगी, इसलिए नहीं कि वो आपके दोस्त, रिश्तेदार या पड़ोसी के पास है.

उन लोगों से बचें जो आपकी आवश्यकता होने पर आपका सम्मान करते हैं और _

_ जब आपकी आवश्यकता नहीं तो आपका अनादर करते हैं..

अब वो समय आ गया है _ जब आप ऐसे लोगों को इग्नोर करेंगे _

_ जैसे उन्होंने कभी आपको गंदे तरीके से इग्नोर किया था.

यदि आप उदास हैं तो आप अतीत में जी रहे हैं, _

_ बीती बातों को भूलकर जीवन में आगे बढ़ें..

सच बड़ी काबिलियत से छुपाने लगे हैँ हम, _

_ हाल पूछने पर बढीया बताने लगे हैँ हम !!

जिंदगी की ठोकर बहुत निराली है, _ जब भी लगती है,

किसी की असलियत दिखा ही जाती है, या फिर कुछ ना कुछ, जरूर सिखा जाती है.

कठिन समय की सबसे अच्छी बात यह है कि _

_ आपको हर किसी के असली रंग देखने को मिलते हैं…

जरुरी नहीं कि इंसान बदला हो, क्या पता जीवन की किसी उलझन में फंसा हो _

_थोड़ा वक्त दो उसे,,!!

जिसके साथ जीवन गुज़ारना हो,

उसकी निंदा करके आप कभी भी आनंद को उपलब्ध नहीं हो सकते.

जो लोग आपको अच्छे लगते हैं,

कोशिश करें कि उनसे आपको कभी कोई काम ना पड़े..

बदल गई है रंगत जमाने की साहब,

आजकल वही अनजान बनते हैं, जो सब कुछ जानते हों..

डिप्रेशन में जाना ओवर थिंकिंग का नतीजा है, इस समय हमारा दिमाग _

_ उन प्रॉब्लम्स को क्रिएट करने लग जाता है, जिन का कोई अस्तित्व ही नहीं होता है..

अत्यधिक सोचना एक नकारात्मक कला है,

ये ऐसी समस्या को भी निर्माण करती है, _ जो वास्तविकता में नहीं है.

“बहुत सी समस्याये हैं, बहुत सी उलझने हैं लेकिन ऐसी एक भी उलझन नहीं _

_ जो मनुष्य हल करना चाहे और हल ना कर सके..

किसी भी तरह की समस्या होने पर घबराएं नहीं _

_बल्कि बिना शांति खोए उसका समाधान करने का प्रयास करें.

” गज़ब का चमत्कार होगा,” सिर्फ कुछ दिनों के लिए,

अपने – आप को “होश” में पूरी तरह से महसूस करने की कोशिश करो..

कभी किसी को उसके बीते हुए कल से मत परखिए,

लोग सीखते हैं, बदलते हैं और आगे बढ़ते हैं..

” वजह ” ही तय करती है, कामयाबी का सफ़र..

वरना ज़िन्दगी का क्या है, आए – बैठे और रवाना हो गए…

आपको आगे बढ़ते रहने के लिए पिछली बातों को भूलते रहना होगा,

ये सोच कर कि बीता हुआ कल वापस नहीं आएगा.

बिता हुआ कल अगर वर्तमान पर नकारात्मक प्रभाव डालने लगे,

तो बीते हुए कल को ज़हर समझकर त्याग देना चाहिए.

दिखावे के लिए बड़े लोगों में बैठकर ख़ुद को जलील मत किया करो,

बस रहो अपनों में नवाबों की तरह…

लोगों की निंदा से परेशान होकर अपना रास्ता मत बदलना,

क्योंकि सफलता शर्म से नहीं साहस से मिलती है..

जो लोग बेहतर उपायों का विरोध करने लगें,

तो इसका मतलब है कि वो हमारे हितैषी नहीं हैं.

दिल तो रोज कहता हैं कि मुझे कोई सहारा चाहिए..

फिर दिमाग कहता है क्यों तुम्हे धोखा दोबारा चाहिए…

दुनिया में आधे लोगों को आप की मुसीबत सुनने में कोई रस नहीं,

और बाकी आधे लोगों का खयाल है कि आप इसी लायक हो.

कभी उस इंसान के लिए मत रोओ जो तुम्हे दुख दे, बस मुस्कुराओ और कहो,

“शुक्रिया” तुमसे से बेहतर किसी को खोजने का मौका देने के लिए..

कोई फायदा नहीं किसी के पीछे पीछे जाने का, हँसते हँसते खुद की Life Enjoy करो

और भूल जाओ उसे, जो तुम्हे भूल गया हो.

बात बनाने वाले अक्सर बात बनाया करते हैं,

जो खुद होते हैं झूठे यारों _ औरों को झूठा बताया करते हैं.

ज्यादा सोचने की जरुरत नहीं है, क्योंकि लोगों की तो आदत होती है,

सामने सलाम और पीठ पीछे बदनाम करने की..

“-बदनामी का डर तो सिर्फ उसे होता है _ जिसमें नाम कमाने की हिम्मत नहीं होती !!”

आप स्वयं को तब तक स्वतंत्र नहीं कह सकते ;

जब तक आप दूसरों को प्रभावित करने के लिए खुद में बदलाव लाते रहेंगे.

अगर लोग आप की तारीफ़ अचानक से शुरू कर रहे हैं, तो समझ जाइए की उनको कुछ काम लेना है ..
ऐसे लोगों से अवश्य संभल कर रहें, जो आप के सामने आप के साथ हैँ, _ और आप के पीछे आप के खिलाफ..
नफरत जलन होती है, असल में जब एक इंसान दूसरे इंसान से नफरत कर रहा होता है तो वास्तविकता में या तो वह उसे पा नहीं पाता, या वह उसके जैसा बन नहीं पाता है..
फिक्र मत करो उनकी, वो तुम्हारी बुराई इसलिए कर रहे हैं, _ क्योंकि वो तुम्हारी बराबरी नहीं कर सकते,,,!!

” कोई दवा नहीं है उसके रोगों की, जो जलता है तरक्की देखकर लोगों की “

करने दो जो आपकी बुराई करते हैं,__

_ ऐसी छोटी – छोटी हरकतें छोटे लोग ही करते हैं.

कान के कच्चे लोग आपकी उन गलतियों के लिए नाराज़ रहते हैं, _

_ जो आपने कभी की ही नहीं…

मुर्ख होते हैं वो लोग, जो साधारण से काम को भी जबरदस्ती जटिल बना लेते हैं,

समझदार तो वो हैं, जो बड़े बड़े काम भी सरलता से कर लेते हैं.

जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं, जिन्हें आज नहीं तो कल बंद होना ही है…

इसलिए जो चीज़ें आपके लिए हैं ही नहीं, उन्हें ज़बरदस्ती पकड़ने से कोई फायदा नहीं है.

लोग इसलिए आपको रास्ते बदलने को कहते हैं, _ क्योंकि वो नहीं चाहते कि,

जो वो नहीं हासिल कर पाए, वो लछ्य आप हासिल कर लो.

कभी कभी आप बिना कुछ किए भी दुनिया को गलत लगते हैं, बुरे बन जाते हैं,

क्योंकि आप वो नहीं करते, जैसा लोग चाहते हैं कि आप करें.

उन लोगों के बारे में सोचना बंद कर दें _ जिनके लिए आप बिलकुल भी मायने नहीं रखते,

यकीन मानिए आप हर पल खुश रहेंगे..

दूसरों से प्रशंसा के कुछ शब्दों के लिए आपको कोई काम नहीं करना चाहिए, _

_ इसे हमेशा अपनी संतुष्टि के लिए करें..

जो लोग आपसे नफरत करते हैं, उनसे कभी बहस ना करें ; वे परजीवी की तरह हैं _

_ जो आप में से सभी सकारात्मक ऊर्जा को खत्म कर सकते हैं.

जब लोग बराबरी करने की स्थिति में नहीं होते तो जल कर और बुराई करके,

अपनी व्याकुलता कम करने की कोशिश करते हैँ.

जब कोई आपसे नफरत करने लग जाए, तो समझ लेना _

_ वो आपका मुकाबला नहीं कर सकता..

अगर आप किसी को बुरे लगते हैं तो उस से आप को दूर हो जाना चाहिए ;

आप की पचासों अच्छाइयां भी उस पर आप के लिए प्यार का काम नहीं कर सकती..

नफरत ही करते हैं ना लोग, _ और हमारा कर भी क्या सकते हैं..
जो लोग दूसरों को निचा दिखाने में उलझे रहते हैं,

वो कभी ऊंचाइयों पर नहीं पहुंच पाते हैं..

अब इतनी ज्यादा समझ आ गयी है कि…

ना तो किसी के साथ बहस करने का मन करता है और ना ही ” समझाने का “

जैसे जैसे आयु बढ़ती है ; आपको ये आभास होने लगता है कि आपने

व्यर्थ ही उन लोगों को महत्व दिया, जिनका आपके जीवन में कोई योगदान था ही नहीं.

नही मन करता अब किसी से बहस करने का, _ जो है जैसा है बस ठीक है..
खुद का ख्याल रखना सीख लो, नहीं तो जब कोई धोखा देगा, तो कुछ करने लायक नहीं बचोगे.
बहुत कुछ है कहने को _ पर ना जाने क्यों _

_ अब कुछ ना कहना ही बेहतर होगा..

जितने दुख आपकाे मिल रहे हैं…

उसमें से निन्यानबे प्रतिशत आपके आविष्कार हैं.

बढ़ती उम्र आपको यह अवश्य बताएगी की _ कुछ लोगों को खो देना

_ वास्तव में _ बहुत कुछ पा लेने जैसा था.

जीवन में हम अपना काफी समय उनके लिए नष्ट कर देते हैं,

जिन्हें हमारी चिन्ता नहीं होती.

” कुछ लोगों के लिए आप महत्वपूर्ण नहीं हैं “

इस बात को स्वीकारिये और जीवन में आगे बढ़ते रहिए..

लोगों और परिस्थितियों से परेशान न हों,

क्योंकि आपकी प्रतिक्रिया के बिना दोनों ही शक्तिहीन हैं.

जब तक आप बुरे समय का अनुभव नहीं करते,

तब तक आप अपने जीवन के गौरवशाली दिनों को संजो नहीं सकते हैं.

ज़िन्दगी को खुली किताब ना बनाओ क्योंकि..

लोगों को पढ़ने में नहीं पन्ने फाड़ने में ज्यादा मजा आता है.

सफर में कहीं तो दगा खा गए हम..

जहां से चले थे फिर वहीँ आ गए हम…

पहचान बड़े लोगों से नहीं,

#समय पर #साथ देने वालों से होनी चाहिए !!

जरूरी नही गुनाहों की सज़ा में ही दर्द मिले,

कुछ ज्यादा अच्छाइयों के सिला भी दर्द में मिल जाया करता हैं.

उजालो में मिल ही जायेगा.. कोई ना कोई,

तलाश उसकी रखो, जो अन्धेरों में भी साथ दे..!!

कुछ लोगों से चाहे, कितनी ही बार मिल लीजिए, _

_ कितनी ही बातें कर लीजिए, कम ही लगती हैं !!

बताकर कुछ न कुछ कमियाँ निगाहों से गिराता है.

ज़माना नेक नीयत पर भी अब उंगली उठाता है….

कुछ बनना ही है तो समंदर बनो,

लोगों के पसीने छूट जायें, तुम्हारी औकात नापते- नापते..

छीनता हो जब तुम्हारा हक़ कोई उस वक़्त तो _

_ आंख से आंसू नहीं शोला निकलना चाहिए.

जितना दिखाते हो, उससे अधिक आपके पास होना चाहिए,

जितना जानते हो, उससे कम आपको बोलना चाहिए.

” शख़्सियत अच्छी होगी _ तभी लोग उस में बुराइयाँ खोजेंगे,

वरना बुरे की तरफ़ _ देखता ही कौन है “

आपकी बदनामी का धुंआ, वहीँ से उठता है ;

जहाँ आपके नाम से आग लग जाती है..

जिसे गुण की पहचान नहीं है, उसकी प्रशंसा से डरो ;

और जो गुण का जानकार है, उसके मौन से डरो..

निकले हैं वह लोग मेरी शख्सियत बिगाड़ने,

किरदार जिनके खुद के मरम्मत मांग रहे है.

वो ख़ुश हैं तुम्हारे बिना तो उन्हें ख़ुश रहने दो, _

_ तुम याद करोगे उन्हें, उन्हें इस भ्र्म में रहने दो ..

ख़ुद को दर्द दे कर भी _ तुमने बोलो क्या पाया !

जो भी देखता है, _ वो तुमको ही सुनाता है !!

एक गलती रोज़ कर रहे हैं हम,

जो मिल नहीं सकता, _ उसी पे मर रहे हैं हम !!

बिना फल वाले सूखे पेड़ पर_ कभी कोई पत्थर नहीं फैंकता.

पत्थर तो लोग उसी पेड़ पर मारते हैं _ जो फलों से लदा लदा होता है..

पेड़ों जैसी जिंदगी गुजर रही है,

फल भी खाते हैं लोग, हमसे तोड़ कर, और पत्थर भी मार देते हैं..

कभी उस चीज़ को मत छोड़ो,_ जो आप वास्तव मेँ चाहते हैं _

_ प्रतीछा करना कठिन है, लेकिन पछतावा करना अधिक कठिन है.

मनुष्य की आदत है जो सहज प्राप्त होता है उसकी कीमत नहीं समझता, _

_ जब जरा दूर हो जाए तब उसकी कीमत समझ में आती है.

” कोई भी चीज जब होती है तब उसकी कीमत पता नहीं चलती, _

_ खो जाने के बाद ढूंढते हैं, जो फिर कीमत देने पर भी नहीं मिलती “

यदि आप पर मुसीबत आती नहीं है, तो उस से सावधान रहें, _

_ लेकिन यदि मुसीबत आ जाती है तो, किसी भी तरह उस से छुटकारा पाएं..

सुख के लम्हों तक पहुंचते पहुंचते हम उन लोगों से जुदा हो जाते हैं ;_

_ जिनके साथ हमनें दुख झेल कर सुख का स्वप्न देखा था !!

दुनिया इतनी तेजी से बदल रही है कि _ अगर हम किसी एक ही नजरिए का दामन थामे रहेंगे,

_ तो आगे नहीं बढ़ सकते..

आप अलग तरह से चमकते हैं _ जब आपका आत्मविश्वास दूसरों से मान्यता के बजाय _ खुद पर विश्वास से भर जाता है.

You glow differently when your confidence is fuelled by belief in yourself instead of validation from others.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected