सुविचार 2429

किसी से नाराज़गी इतनी भी गहरी ना करें कि भविष्य में समझौते कि गुंजाइश ही ना बचे…

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *