सुविचार 2442

मैं सब जानता हूँ,

यही सोच इंसान को कुएँ का मेंढक बना देती है.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *