सुविचार 2611

जगत एक प्रतिध्वनि है सब कुछ वापस आ जाता है.

मर्जी आपकी, आप वापस क्या पाना चाहते हैं ?

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *