सुविचार 2751

रहमतों की कमी नहीं ‘मालिक के ख़ज़ाने में*

झांकना खुद की झोली में है कि कहीं कोई ‘सुराख’ तो नहीं*

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *