सुविचार 2764

जग में पहला दुखी निर्धन है, उससे अधिक दुखी कर्जदार है.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *