सुविचार 2779

समय और उसकी मार को देख सकने वाली आंख हर मनुष्य में होती ही है.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *