सुविचार 2398

“स्टेच्यू- स्टेच्यू” खेलते खेलते पता ही नहीं चला कि लोग कब पत्थर के हो गए.

सुविचार 2397

अगर खुश रहकर जीना है तो अकेले जीना,

आखिरी वक्त तक कोई भी साथ देने वाला कोई नहीं होता.

मस्त विचार 2272

छु जाते हो तुम हर रोज एक नया ख्वाब बनकर,

ये दुनिया खामखां कहती है की तुम मेरे करीब नहीं………!!!!

मस्त विचार 2270

उन घरों में……… जहाँ मिट्टी के घड़े रहते हैं…..

क़द में छोटे हों………… मगर लोग बड़े रहते हैं …..

मैंने फल देख के…….. इन्सानों को पहचाना है…..

जो बहुत मीठे हों ……….अंदर से ……सड़े रहते हैं…

सुविचार 2395

सफलता की लड़ाई अकेले ही लड़नी होती है,

सैलाब उमड़ता है जीत जाने के बाद….

सुविचार 2394

दिमाग एक मशीन की तरह है, जिस का इस्तेमाल होता रहे ताकि वह सक्रीय रहे. इसलिए लिखनेपढ़ने के अलावा दिमागी कसरत जैसे वर्ग पहेली, सुडोकू हल करते रहें.