सुविचार 2441

हम हैं काबा हम हैं बुतख़ाना हमीं हैं कायनात,

हो सके तो खुद को भी इक बार सजदा कीजिए.

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *